18वां वचन

 

बीवी स्टील के गिलास में पानी पी रही थी, अचानक तुनक कर बोली – देखो जी, अब मैं तुम्हारे साथ नहीं रह सकती?

मैंने कहा – क्या हुआ? अभी तो शादी को सात साल भी अगले महीने जाकर पूरे होंगे| और अलग होना ही है तो कम से कम ऋतिक सुजैन की तरह 12-13 साल तो पूरे कर लो|

बीवी: देखो, ये जो कुछ तुमने पिछले सात सालों से चला रखा है, अब ऐसे नहीं चलेगा| मुझे बदलाव चाहिए|

मैंने कहा – अरे भाग्यवान, तुम जो कहो वो कर देंगे, चाँद सितारे तोड़ लायेंगे|

बीवी – ये नेताओं सी बातें न करो, मुझे चाँद सितारे नहीं चाहिए| मेरी कुछ शर्तें है उन्हें मानने का तुम्हे वचन देना होगा|

मैंने कहा – अरे शादी में तो मैंने तुम्हे पूरे सात वचन दिए तो थे| हमारे यहाँ तो आठवाँ वचन भी होता है, वो भी दिया था|

बीवी – वो 8 वचन सात सालों में फुर्र हो गए| आजकल फैशन 18 वचन का है, मेरी बाकी की 10 शर्तें है, मुझे उनको पूरा करने का वचन दो|

मैंने कहा – मैं तो यूँ ही बिना शर्त तुम्हारी हर शर्त मानने को तैयार हूँ, खैर फिर भी तुम कहो|

शादी के समय के आठ वचन छोड़ कर बीवी ने उसके आगे से अपनी लिस्ट शुरू की :

नौवां वचन: कार कल्चर बंद करो| पब्लिक ट्रांसपोर्ट प्रयोग करो|

अब तुम मुझे ऑफिस छोड़ने नहीं जाओगे, न मैं कार लेकर जाउंगी| मैं भी और लोगों की तरह पब्लिक ट्रांसपोर्ट से जाउंगी|

मैंने कहा: इसमें मुझे क्या हर्ज? तुम्हें जाना है, तुम्हारी मर्जी, जैसे चाहे जाओ|

दसवां वचन: तुम मेरी लौकी की सब्जी पर फिर से कोई फेसबुक अपडेट नहीं डालोगे|

मैंने कहा: ये टांग खीचने का तो अपना मजा है, पर चलो मंजूर, नहीं डालूँगा|

ग्यारहवां वचन: नौकरानी के घर बिसलेरी का पानी भिजवाओगे|

देखो हमारी नौकरानी अक्सर बीमार हो जाती है, क्योकि उसके यहाँ पानी साफ़ नहीं आता| उसके बिना हमारा काम नहीं चलता, इसलिए तुम रोज उसके घर बिसलेरी की 20 लीटर वाली 2 बोतल मुफ्त भिजवाओगे|

मैंने कहा: अरे पर इससे तो अपने घर का खर्चा बिना वजह बढ़ जायेगा| कहाँ से होगा?

बीवी: वो तुम जानो| मैंने तो नौकरानी को वादा कर दिया है|

बारहवां वचन: मैं हर हफ्ते ब्यूटी पार्लर जाउंगी|

मैंने कहा: तुम्हारी मर्जी, हर रोज जाओ चाहे|

तेरहवां वचन: तुम मुझे हर महीने गहने लाकर दोगे|

मैंने कहा: हर महीने गहने?? पैसे कहाँ से आयेंगे? तुम्हे तो आमदनी पता है न?

बीवी: मैं तुम्हारे सब बैंक अकाउंट चेक करूंगी और तुम्हारे खुद पर किये हर खर्चे को ऑडिट करूंगी| तुमने जरूर मुझसे छुपा के कुछ पैसे रखे हैं और कुछ हेराफेरी की है, इसलिए हर महीने मुझे गहने लाकर दोगे|

मैंने कहा: तो पहले ऑडिट कर लो न, फिर वादा करवाना गहने का| अगर बैंक में गहने लायक कुछ न निकला तो कैसे पूरा करूंगा गहने का वादा? वैसे भी तो मेरे सब अकाउंट तुम्हारे कंट्रोल में है| जो चाहो देखो|

चौदहवाँ वचन: तुम सब्जियां हमेशा बाजार से 50% कम दाम पर लाओगे| जो दाम सब्जी वाला कहेगा उस पर 50% डिस्काउंट लोगे|

मैंने कहा: क्या बात कर रही हो? अरे पास वाले मार्केट के मुकाबले हमारे को हमेशा ताज़ी सब्जी मिल जाती है, हर समय मिल जाती है, और तब भी उनसे सस्ती मिलती है|

बीवी: नहीं, तुम मार्केट ढंग से घुमते नहीं और महँगी सब्जी लाते हो| कभी कभी लगता है जो सब्जी के लिए पैसे देती हूँ, उसमें भी घपला करते हो|

मैंने कहा: अगर 50% डिस्काउंट के बाद सब्जी वाले को कुछ बचा नहीं तो? वो सब्जी नहीं देगा| फिर क्या हम बिना सब्जी या कम सब्जी के खायेंगे?

बीवी: क्यों? पडोसी ने अपनी बीवी को 30% डिस्काउंट पर सब्जी लाने का वादा किया है| मैंने उन्हें कह दिया की हम 50% डिस्काउंट पर लायेंगे|

पन्द्रहवां वचन: हमारे घर का एक कमरा हमारी कामवाली बाई को दे दोगे|

मैंने कहा: पर उसका तो घर है ना? वो तो वहां रहती है| पानी तो भिजवा ही रहा हूँ|

बीवी: कामवाली है, बुरे हाल में कच्ची बस्ती में रहती है| उसे भी हक़ है पक्के मकान में रहने का| इसलिए एक कमरा उसे दे दो|

मैंने कहा: और क्या होगा अगर मैंने जो कमरा उसे दिया, उसे वो किसी और को दे दे और खुद कच्ची बस्ती में ही रहे?

सोलहवां वचन: जब मैं मायके जाउंगी तो तुम खाना बाहर नहीं, रोज अपने दोस्तों के घर खाओगे|

मैंने कहा: एक दो दिन ठीक है, पर रोज कैसे?

बीवी: रोज क्यों नहीं खा सकते? आखिर तुम सब एक ही तो हो, बाहर से अलग बनते हो पर आपस में मिले हुए, तो मिल के खाओ|

सत्रहवां वचन: तुम कार में मुझे हमेशा अगली सीट पर अपने बगल में बिठाओगे?

मैंने कहा: अब ये कैसी बचकानी सी शर्त है? अपनी कार है, आगे पीछे जहाँ चाहे वहां बैठो|

बीवी: क्यों बचकानी शर्तें क्या सिर्फ वही रख सकते हैं जिनका नाम अ से शुरू होता है|

अट्ठारहवां वचन: तुम और मैं घर में सारे काम मिलकर करेंगे|

मैंने कहा: करते ही हैं, आगे भी करेंगे|

बीवी: तो क्या है तुम्हारा फैसला?

मैंने कहा: भाग्यवान, ज्यादातर शर्तें तो तुम्हारी ऐसी थी जिनका मुझसे कोई लेना देना नहीं, तुम्हे खुद ही करना था| खैर जो भी वचन तुमने मांगे, मैं पूरा करने का वादा करता हूँ| अब तो रहोगी न मेरे साथ?

बीवी: नहीं, मैं अभी मम्मी से, पापा से, भैया से, भाभी से, ससुराल वालों से, कॉलेज के फ्रेंड्स से पूछूंगी| मेरा मन तो नहीं है तुम्हारे साथ रहने का, पर अगर उन्होंने हाँ कही तो हाँ वर्ना…….

 

 

18वां वचन

Post navigation


2 thoughts on “18वां वचन

  1. Naveen ji aapne to majak hi uda diya.

    11th 13th and 15th are good points. baakiyon ke baare mein abhi kuchh kahunga nahi kyunki shayad unka jawab samay ke garbh mein hai aur intezaar karna hi sahi rahega kyunki sambhavna hai aap sahi sabit hon. 🙂

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *