Who is Pretty?

 

कल रात चेतन भगत की नयी बुक 2 states पढ़ रहा था. चेतन भगत ने लिखा था की आपकी पूर्व और वर्तमान प्रेमिका में से जो भी पूछे कौन ज्यादा खूबसूरत थी तो आप उसी का नाम ले, जिसने ये सवाल पुछा. मैंने ये बात अपनी बीवी को बताई तो पूछती है की अब आप बताओ की मुझमे और आपकी प्रेमिकायों (मेरी कई थी, पर अलग अलग समय में) में कौन खूबसूरत थी. जाहिर सी बात है की जवाब बीवी के पक्ष में देना था.. पर उसके इस सवाल के साथ ही एक नाम और चेहरा दिमाग में उभरा.. इस अचानक उभरी याद ने कहा की उसके बारे में लिखना तो बनता है बॉस.. 

बता दू की जिसकी  मै बात करने जा रहा हु, वो मेरी गर्लफ्रेंड नहीं थी.. बस एक आकर्षण था और दोनों तरफ से था. दोनों ने कभी कुछ कहा नहीं पर हम दोनों को पता था की हम एक दुसरे को पसंद करते है..

जून 2003 की बात है, मै दिल्ली से अपनी सम्मर ट्रेनिंग  ख़तम करके घर आया था. एक पुरानी परिचित हमारे घर आई और उनके साथ एक बहुत ही सिम्पल सी पर खूबसूरत सी लड़की थी, नीले रंग का सूट पहने हुए. गोरी सी, बच्ची सी शकल वाली उस लड़की को मैंने हल्का सा परदे के पीछे से देखा.. सुबह के १० बज रहे थे पर मै सो कर उठा ही था.  उसे देखते ही कुछ हुआ, मैंने फटाफट ब्रुश किया, तब तक मेरी उन परिचित ने आवाज दी, नवीन भैया कहा है, आज तुझ से ही मिलने आये है..

मै फटाफट ब्रुश करके पंहुचा. उन्होंने अपने साथ आई लड़की से मेरा परिचय करवाया. वो उनकी बहिन की बेटी थी. गोपनीयता को ध्यान में रखते हुए उसका नाम लिखना ठीक नहीं है पर अपनी सुविधा के लिए हम उसका नाम सोनी रख लेते है.. उन्होंने बताया की सोनी MBA करना चाहती है और उसने RMAT का फॉर्म भरा है. तुम कुछ guide  करो. मेरा तो “दिल बोले हड़प्पा” हो गया. मैंने कहा जरूर, आओ हम अन्दर बैठते है.. अन्दर बैठ के मैंने एक गंभीर और सुलझे हुए लड़के की एक्टिंग शुरू की जो मै नहीं हु. मैंने उससे पुछा की MBA क्यों करना है. किस तरह की नौकरिया मिलती है, उसका इंटेरेस्ट किसमे है वगैरह वगैरह. मैंने उसे कहा की मै तुम्हे नोट्स और PT का कोर्स मटेरिअल दे दूंगा पर ढूंढना पड़ेगा. अपना फ़ोन नंबर दे दो, (बहुत कमीना हु मै) मै फ़ोन पर बता दूंगा. उसने नंबर दिया, हो गयी फिर से बल्ले बल्ले..

शाम को मैंने उसे फ़ोन किया की बुक्स मिल गयी है, तुम ले जाना या मै देने आ जाऊ? उसने कहा की कल मिलते है पर अफ़सोस अगले दिन मुझे वापस कॉलेज आना था, तो मैंने कहा की तुम घर से ले जाना. इस पर उसने कहा की “पता है मैंने सोचा था की तुम यु ही कह रहे हो, बुक्स नहीं ढूंढोगे, मुझे अच्छा लगा की तुमने मेरे लिए इतना किया”. मैंने हँसते हुए उसे शुभकामनाये दी और फ़ोन रख दिया. सिर्फ आपको बता रहा हु, बुक्स मैंने नहीं ढूंढी क्योकि वो पहले से ही सही जगह रखी हुयी थी. मैंने तो सिर्फ नंबर लेने और बात बढ़ने के लिए कहा की ढूंढना पड़ेगा.. कहा था न बहुत कमीना हु मै..

खैर इस घटना के एक महीने बाद मुझे एक लड़की की ईमेल आती है, जिसे मै जानता नहीं.. दरअसल मुझे उसका ओफिसिअल नाम नहीं पता था, मै तो घर के नाम सोनी से जानता था.. उसने लिखा की उसकी RMAT में रेंक अच्छी नहीं आई है और उसे काउंसेलिंग के लिए जोधपुर जाना है. वो नहीं जाना चाहती क्योकि उसे अच्छा कॉलेज नहीं मिलेगा और वो अच्छे रेंक नहीं लायी इसलिए थोरी सी हताश भी थी. मैंने उसे जवाब में हिम्मत नहीं हरनी चाहिए टाइप का ज्ञान भेजा. फिर शाम को फ़ोन किया और हमारे करीब आधे घंटे बात हुई. बात करने के बाद वो खुश लगी. मुझे पूछती है की क्या मै उसके साथ जोधपुर जाऊंगा? मै कैसे जाता और घर पे क्या बोलता? तो मना कर दिया.

कुछ दिनों बाद फिर से उसकी मेल आती है की उसने MBA नहीं करनी और उसने MCA ज्वाइन कर लिया.. इसके बाद हमारे बीच में मेल कम होते गए और फ़ोन पर बाते बढ़ने लगी. मै जब भी जयपुर जाता तो उससे जरूर मिलता. दिन में उसके घर पे कोई नहीं होता था, तो हम दोनों आराम से ४-५ घंटे तक बतियाते रहते. क्या बात करते थे पता नहीं, पर मुझे अच्छा लगता था और शायद उसे भी. मै अगर एकाध घंटे में वहा से जाना चाहता तो वो मुझे जाने नहीं देती थी.

एक दिन बात बात में मेरी एक क्लासमेट की बात चली और वो गुस्सा हो गयी की तुम किसी लड़की से बात करते हो, और कुछ तो नहीं है. मैंने कहा नहीं, क्यों अगर होता तो.. ये सुनते ही वो बौखला उठी. खैर मैंने उसका गुस्सा शांत किया.. समझ में आ रहा था की वो भी मुझे पसंद कर रही है, पर कहे कौन?

धीरे-२ मै और वो दोनों ही पढाई के चक्कर में बिज़ी होते गए और बाते कम होने लगी.. इस बीच मेरी कॉलेज में एक गर्लफ्रेंड बनी, और बात करना बंद सा ही हो गया.. और हमारी इस अनकही सी छोटी सी खूबसूरत सी कहानी ख़तम हो गयी.

समय के साथ चीजे बदलती है, उसकी तरफ से भी पहले जो व्यव्हार होता था, काफी बदला. मेरी शादी होने वाली थी, मैंने उसे invite किया. कुछ दिनों बाद उसकी भी शादी हुई उसने भी मुझे invite किया. खास बात ये रही की हम दोनों ही एक दुसरे की शादी में नहीं गए.. शादी के बाद हमारी एक दो बार बात हुई पर वैसे ही जैसे दो अच्छे दोस्तों में होती है.. मै लडकियों की शादी के बाद उनसे संपर्क कम ही रखता हु, पता नहीं उसके ससुराल वाले इसे कैसे ले, इसलिए..  

पिछले एक साल से हमारी बात नहीं हुई न कोई ईमेल, पर हम अच्छे दोस्त है और रहेंगे. वो जो आकर्षण था ख़तम हो गया और एक अच्छी दोस्ती शुरू हो गयी.

मेरी जिंदगी में ऐसी कई लडकिया आई जिनसे लॉन्ग टर्म, शोर्ट टर्म, और कुछ इस तरह के अनकहे से रिश्ते बने.. अब जब मैंने इस बारे में लिखना शुरू कर ही दिया है तो सोचता हु बाकि crush और affairs के बारे में भी लिखू. तो लिखूंगा, पढ़ते रहिये इस section को..

Who is pretty

Post navigation


4 thoughts on “Who is pretty

  1. This is so sweet. 🙂

    Telugu mei ek movie hai… “Naa autograph…sweet memories” karke. 🙂

    It means… “My autgraph… sweet memories”

    Movie ladke kii shaadi se shuru hoti hi… jab woh apnein sabhi doston ko invitation baantnein jaata hia… aur jis jis jagah jaataa hai… wahaan uske long term/short term crush ke baare mei sohta hai.

    Aaj aapki ye dhaaravahik padhe ke wahi yaad aa gaya. 🙂

    Am looking forward to reading it.

    Just one tip… aglee baar… ek kahaani ko do hisson mein baantiye… aur break aisii jagah dijiye… ki padhnein waale na chaah kar bhii waapis aayein… kahaani poora padhnein ke liye.

    Trust me… it works. 🙂

  2. i hope you must have read “my experience with the truth” by MK Gandhi, if not then read it at least once and write these kind of your experience.i think u understand what i mean.
    good going. keep it up

  3. apne kabhi ye story to nai batai thi.yahan tak yaad hai apko ki usne nile rang ki suit pahni thi.par kya apko ye yaad hai ki hamari pahli mulaqat me maine kaun se rang ki suit pahni thi?
    padh ke bura laga,par apke likhne ke style ne mujhe fir se apka fan bana diya hai.Fan to main thi hi pahle se ab sayad aur jyada ho gai hu.

  4. bus sir aap book likh loooo apne kissoo kii so intersting dey areee kahan maine project bnana thaa n raat k 2 bjee aapki yeh stories par ri hun or comments de rii hun….really interestingggg mast hiaaa ek damm filmy typess…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *